रविवार, 28 फ़रवरी 2010

प्यार तुम्हारा रंगों का त्यौहार

एक रंग आसमान का
अनेक रंग धरती के
घुलते है भीतर
आती है जब तुम्हारी याद

एक रंग मिलन का
अनेक रंग सपनों के
पड़ते हैं ऊपर
होता है जब तुम्हारा साथ

एक रंग आँख का
अनेक रंग आत्मा के
रंगते हैं प्राण
देखता हूँ जब तुम्हारा रूप

एक रंग कविता का
अनेक रंग करुणा के
रचते हैं होठ
कहता हूँ जब तुम्हारा प्यार....

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर .. रंगोत्सव पर्व की अनेको हार्दिक शुभकामनाये ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. GOOD ONE SIR... NICE DEPICTION OF SOOTHING EXPRESSIONS WITH A RELEVANCE...

    HOLI MUBAARAK HO.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया!


    ये रंग भरा त्यौहार, चलो हम होली खेलें
    प्रीत की बहे बयार, चलो हम होली खेलें.
    पाले जितने द्वेष, चलो उनको बिसरा दें,
    खुशी की हो बौछार,चलो हम होली खेलें.


    आप एवं आपके परिवार को होली मुबारक.

    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं