गुरुवार, 7 जनवरी 2010

दोस्ती

किताब सी तुम्हारी दोस्ती.

पढ़कर इम्तहान देना
न लिखकर ईनाम लेना
बस आदमी होते जाना
ज़मी-आसमां से भर जाना.

ज़िल्द बदलने की चिंता
न पन्ने उखड़ने का डर
बस बरतना प्यार से
संवरते जाना.

काली स्याही में
उजली भाषा सी
साथी किताब सी
तुम्हारी दोस्ती.

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उम्दा संदेश...अच्छा लगा पढ़कर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह कविता तुमसे पहले भी सुनी है। सादी और सीधे दिल में समा जाने वाली कविता

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी कविता है
    मैं कामना करता हूँ कि आगे भी ऎसे ही लिखते रहिए

    उत्तर देंहटाएं